Sunday, July 3, 2011

माफी...



माफ करना ए-जिंदगी
इस बार बस दाना-पानी
अगले जनम तुझे
भरपूर जी लेंगे