Saturday, August 6, 2011

दर्द




दर्द की दवा ढूँढते
मैं खो बैठा खुद को
न दवा मिली
और न मैं 'मैं" रहा
साथ चलकर कुछ
दिलाते हैं यकिं
मेरे होने  का
जब होने लगता है
खुद पर मुझे ऐतबार
तभी वे दे जाते हैं
दर्द बेहिसाब