Thursday, November 24, 2011

काश!



खुशी की आस में
ताउम्र भटका
मौत जब खिंचने लगी
अपने दामन में
तब मुट्ठी खोली तो
खुशियों का आँगन मिला