Monday, September 5, 2011

ना समझी!





वो ना समझे
दर्द की गहराई
वर्ना वे भी डूब जाते
या हमारी जान ले जाते