Wednesday, July 3, 2013

बीज प्रेम का


हर जगह बो देना चाहता हूं
वह बीज 
जो तेरे, मेरे होने की 
देता है गवाही
जब कभी एक पल को तू
भूलना चाहे भी मुझे
किसी कोने से तब 
मेरे होने की गंध आ घेरे तुझे