Saturday, March 3, 2012

समझ!

तुम नहीं समझोगे मुझे
कहती है वो
झगड़ती भी है
बिन पानी मछली-सी
तड़पती भी है
लौट आती है जैसे
चिड़िया अपने नीड़ में
वैसे ही, मेरी बाहों में समाँ
कहती है वो
एक तुम ही तो हो
जो समझते हो मुझे