Friday, April 25, 2014

कुछ ऐसी बात कर...


रूह को छू जाए
कुछ ऐसी बात कर
आ घड़ी भर रूक
फिर ना जाने की बात कर
तोड़ दे हर बांध
आ अब बहने की बात कर
बहुत हो गया दूर-दूर
अब पास आने की बात कर
पत्थर की तरह कठोर क्यों
पिघलने की बात कर
तेरे बिन अंधेरी है जिंदगी
बस अब रोशनी की बात कर
आ गये हैं मझधार में
अब डूबने की ही बात कर
हर बार जीत ही जाती है
इस बार कुछ हारने की बात कर
चल दिए हैं सहरा में तो
पानी की नहीं, प्यास की बात कर
बहुत हुई खुशियों की खोज
अब कुछ खो देने की बात कर
तुझ में मैं, मुझमें तू
कुछ ऐसे ही, एक होने की बात कर
क्यों दो दुनी चार, चार दुनी आठ
कभी तो शून्य की बात कर
जिंदा रहने के भ्रम के लिए ही सही
कुछ देर तो मौत की भी बात कर
हर वक्त का चलना ही क्यों
कुछ देर एक-दूजे को देखने की बात कर
मुट्ठी भर जो वक्त है
इसमें पूरी उम्र जीने की बात कर
रूह को छू जाए
कुछ ऐसी बात कर
कुछ ऐसी बात कर...